सभी श्रेणियां
क्या मैं गर्भवती हूँ
गर्भावस्था - की सप्ताह दर सप्ताह गाइड
गर्भवती हो रही है
गर्भावस्था आहार
सूचियां करने के लिए गर्भावस्था
एक बेबी शावर की योजना बना रहा है
शिशु का जन्म
गर्भावस्था व्यायाम

20 हफ्ते का गर्भ है- क्या उम्मीद की जाए?

अब आप सफलतापूर्वक आधिकारिक रूप से अपने गर्भ के सफर के आधे रास्ते पर पहुंच गई हैं, क्योंकि औसत गर्भ अवधि 40 हफ्ते की होती है। हालांकि, 40 हफ्तों से दो हफ्ते पहले या बाद में शिशु जन्म होना सामान्य बात है। 

इस हफ्ते आपके शरीर में होने वाले बदलाव

20 week

आपके पेट के बढ़ते हुए आकार के साथ, आपके शरीर का गुरुत्वकेंद्र बदलता रहता है जिसके कारण आप थोड़ा अलग तरीके से चल सकती हैं।

अब तक आपका गर्भाशय आपकी नाभि के स्तर पर होता है।आपकी कमर गायब हो जाती है, जिससे आपके शरीर की चौड़ाई आपके हाथों के नीचे से लेकर आपके कूल्हों के नीचे तक एक जैसी दिखती है। यदि आपको पहले से कोई बच्चा है तो यह इस हफ्ते के काफी पहले हो सकता है। 

प्रेग्नेंसी हॉर्मोन के कारण, आपकी रक्त वाहिकाएँ अधिक शांत हो जाती हैं, जिससे खून मुक्त रूप से बहता है और इससे नसों में सूजन या बवासीर हो सकता है। 

क्लोएज़्मा को अधिक गहरा होने से रोकने के लिए बाहर निकलते समय हैट लगाएँ और सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें। 

अधिक लंबे समय तक न खड़ी रहें या किसी बैठी हुई या लेटी हुई स्थिति से अचानक से न खड़ी हो जाएँ, क्योंकि इससे आपको चक्कर आ सकता है और आप बेहोश हो सकती हैं। 

यदि आपके हाथ अपने आप अपने पेट को संभालने के लिए नीचे की ओर चले जाते हों, तो इसे सामान्य बात मानिए। 

 

इस हफ्ते आपके शिशु में होने वाले बदलाव

  • अब तक शिशु के बाहरी कान बन चुके होते हैं।
  • आपका शिशु अब लगभग 16.5 centimetres लंबा हो चुका होता है। 
  • आपका शिशु ऐम्नियॉटिक द्रव में गर्म रहता है, जिसका तापमान आपके स्वयं के मूल तापमान से थोड़ा अधिक होता है। 
  • इस हफ्ते आपके शिशु की गतिविधियां बढ़ जाती हैं, हालांकि इससे आपको कोई परेशानी नहीं होती है। 

आपके पेट की दीवार के माध्यम से आवाज़ आपके शिशु तक जा रही होती है और अब जब बाहरी का कानों का निर्माण हो चुका होता है, ध्वनि तरंगें आंतरिक कान तक प्रवाहित होती हैं। इसलिए यदि आप उसके साथ बात करती हैं तो आपका शिशु आपकी आवाज़ पहचानना शुरु कर देगा, और जन्म के बाद इसके साथ परिचित होगा। 

इस हफ्ते के सुझाव

20 week

आगे की ओर झुककर न बैठें और अपने कंधों को पीछे की ओर रखें, क्यों कि इससे आपके शिशु को अधिक जगह मिलेगी। यदि आपका काम डेस्क पर बैठ कर करने वाला है, तो ध्यान रखें कि आपकी कुर्सी आरामदेह होनी चाहिए ताकि उससे आपके शरीर को किसी प्रकार के तनाव या दबाव का अनुभव न हो। 

भारी चीजों को उठाते समय अपने शरीर को ऐंठने से पीठ दर्द पैदा हो सकता है। मसाज, गुनगुने पानी से स्नान, हीट पैक्स से पीठ के दर्द में राहत मिल सकती है, पर यदि तब भी पीठ दर्द बना रहे तो किसी फिज़ियोथेरेपिस्ट के पास जाएँ।

मल त्याग की जरूरत होने पर उसे रोकना या टालना बिल्कुल भी नहीं चाहिए। अपने शरीर के संकेतों को समझें और वहीं करें जो आवश्यक हो ताकि किसी प्रकार की अवांछित जटिलता न पैदा हो। 

कई महिलाएँ  प्रसव प्रक्रिया को लेकर भयभीत रहती हैं और अपनी गर्भावस्था के दौरान चिंता करती रहती हैं।यदि आपको भी ऐसा ही लगता है तो बेहतर होगा कि आप अपने डॉक्टर से बात करें। 

प्रसव की अनुमानित तिथि को लेकर शांत रहें, क्योंकि यह उस तिथि से कुछ हफ्ते आगे या पीछे हो सकती है। 

20 week

पैरों के आकार में वृद्धि आपके वज़न के बढ़ने के कारण हो सकती है, जो आपके पैरों पर काफी दबाव डालता है और इस प्रकार पैरों के चाप को चपटा कर सकता है। 

रोचक आलेख

गर्भावस्था 02/12/2019

गर्भावस्था का पहला त्रैमासिक

पहले त्रैमास के कम से कम आधे हिस्से तक, ज्यादातर महिलाओं को यह एहसास भी नहीं होता कि वे गर्भवती हैं। भले ही यह समझ में नहीं आता है कि हम गर्भधारण होने के पहले सप्ताह से गर्भावस्था के सप्ताहों की गिनती करते हैं, परन्तु अनुमान लगाने का एकमात्र तरीका यही है। पहला त्रैमास जबरदस्त विकास का समय होता है। इस श्रृंखला में, हम इस महत्वपूर्ण त्रैमास में 13 सप्ताहों में से प्रत्येक को देखेंगे और देखेंगे कि यह छोटा है, लेकिन आपके भ्रूण के जीवन की संभावनाओं को अनुकूलित करने के लिए महत्वपूर्ण नींव इसी में रखी जा रही है।

गर्भावस्था 02/12/2019

गर्भावस्था का तीसरा त्रैमासिक

गर्भावस्था के 12 सप्ताहों के पूरा हो जाने पर , बच्चे का शरीर पूरी तरह से गठित हो जाता है और वह एक छोटे मानव की तरह दिखाई देता है। इसका सिर अपने शरीर के बाकी हिस्सों से आनुपातिक रूप से बड़ा होता है और चेहरे की विशेषताएं पहचानने योग्य हो जाती हैं। दूसरे त्रैमास में शरीर के महत्वपूर्ण अंगों और तंत्रिका तंत्र का विकास अधिक परिपक्व हो जाता है।

गर्भावस्था 16/01/2020

शिशु का जन्म

जिस पल की आप प्रतीक्षा कर रहे थे वह अंततः आ गया है और ऐसा कुछ भी नहीं है जो इसे घटित होने से रोकने जा रहा है ; आपका बच्चा एक या फिर दूसरे तरीके से पैदा हो ही जाएगा। यह जानकर कि प्रसव पीड़ा और प्रसव के दौरान क्या होता है , आपको उसके बारे में चिंता से छुटकारा पाने में मदद मिल सकती है।.

विषय के साथ आलेख