आपके ओव्यूलेशन दिनों और चक्र के बारे में आपको जो जानकारी चाहिए

अपने अंडोत्सर्ग दिनों और चक्रों के बारे में हर वो बात जो आपको जानना जरूरी है

2 min |

यदि आप गर्भवती होने की योजना बना रही हैं तो आपको अपने चक्र में अंडोत्सर्ग दिन की पहचान करना शुरु करना चाहिए।यदि आप अंडोत्सर्ग वाले अहम दिन के आस-पास के दिनों में यौन संबंध बनाती हैंतो गर्भवती होने की संभावनाएं काफी ज्यादा होती हैं, इसलिए उस ख़ास समय की पहचान करना जरूरी होता है।
दुर्भाग्यवश जब तक आपको पता चलता है कि यह अंडोत्सर्ग दिन है तब तक काफी देर हो चुकी होती है। अंडा यदि सफलतापूर्वक फर्टिलाइज़ किया नहीं जाता, तो 12 घंटे की कम अवधि में ही वो शरीर से बाहर निकल जाएगा।

अंडोत्सर्ग के दिनों में क्या होता है?

  • अंडोत्सर्ग के दिन मासिक चक्र में एक अहम समय होता है। अंडोत्सर्ग का समय हॉर्मोनों द्वारा नियंत्रित होता है। माहवारी के बादअंडोत्सर्ग वाले दिनों में एस्ट्रोजन स्तर में वृद्धि होने लगती है और इसके प्रतिक्रिया स्वरूप गर्भाशय अस्तर मोटा होने लगता है और सर्वाइकल म्यूकस पतला हो जाता है और शुक्राणुओं को ग्रहण करने के लिए अधिक सक्रिय हो जाता है।
  • एक निश्चित स्तर पर, एस्ट्रोजन गोनैडोट्रोफ़िन हॉर्मोन का स्राव करना आरंभ करता है, जो सामुहिक रूप से अंडोत्सर्ग मेंऔर अंडे को फ़ैलोपियन नली में पहुंचने में मदद करते हैं।
  • इन हॉर्मोनों के संयोजित प्रभावों में शामिल हैं- अंडोत्सर्ग से पहले महिलाओं में यौन इच्छा जगना और अंडोत्सर्ग के ठीक बाद शरीर के तापमान में वृद्धि होना।
  • अंडा लगभग 12-24 घंटे तक जीवित रहता है और यदि यह फैलोपियन नली में किसी शुक्राणु (स्पर्म) से नहीं मिलता है, तो यह शरीर से बाहर निकल जाता है।

आप अपने मासिक चक्र में सबसे संभावित अंडोत्सर्ग दिन की पहचान कैसे कर सकती हैं?

  • स्टॉक-स्टैंडर्ड प्रतिक्रिया यह है कि अंडोत्सर्ग आपके मासिक चक्र के 14वें दिन (माहवारी शुरु होने का दिन पहला माना जाएगा) होता है।
  • इसके मुताबिक आपका मासिक चक्र 28 दिनों का होता है; पर ज्यादातर महिलाओं में यहऔसतचक्र से कुछ कुछ अंतर के साथ होता है। अपने मासिक चक्र की सही समझ हासिल किए बिना अंडोत्सर्ग दिनों की पहचान करना काफी कठिन हो सकता है, इसलिए यदि संभव हो, तो एक पैटर्न की पहचान करने के लिए कुछ महीनों तक अपने मासिक चक्र का चार्ट बनाएँ।
  • अपने मासिक चक्र का चार्ट आप कई तरीकों से बना सकते हैं।
  • सबसे प्रभावी विधियों मेंअंडोत्सर्ग के संभावित लक्षण, आपके शरीर का बेसल (विरामावस्था में) तापमान और सर्वाइकल म्यूकस के संघटन को ट्रैक करने से शामिल होता है।
  • आपको कुछ महीनों के बाद एक पैटर्न समझ सकता है, हालांकि अंडोत्सर्ग कभी भी योजना के साथ नहीं होता और यह तनाव, बीमारी, शारीरिक गतिविधि और आहार में बदलावों जैसे कारणों से प्रभावित हो सकता है।

क्यों इतने सारे गर्भनिरोधक उपाय आपको अंडोत्सर्ग दिनों की पहचान करने से रोकते हैं?

  • यदि आप गर्भ निरोधक गोलियाँ ले रही हैं या गर्भनिरोध के अन्य प्रकार का इस्तेमाल कर रही हों, जो आपके शरीर में कृत्रिम हॉर्मोनों का स्राव करते हों, तो अपने मासिक चक्र का चार्ट बनाने का कोई मतलब नहीं बनताक्योंकि आप ऐसी स्थिति में अंडोत्सर्ग के दिन की पहचान नहीं कर पाएंगी।
  • यह इसलिए होता है क्यों कि इन कृत्रिम हॉर्मोनों की क्रिया आपके शरीर की स्वाभाविक हॉर्मोनल लय को बिगाड़ देती हैं और सामान्यतः ऐसे ड्रग्स का सेवन करने के दौरान आपका शरीर अंडोत्सर्ग करता ही नहीं है।
  • उन मुख्य गर्भनिरोधक तरीकों में जो कृत्रिम हॉर्मोनों के इस्तेमाल से आपके शरीर के स्वाभाविक अंडोत्सर्ग चक्र को प्रभावित करते हैं, वे सभी गर्भनिरोधक दवाएं या कोई इंजेक्टेड गर्भनिरोधक होते हैं।
  • फिर भी आपके शरीर के स्वाभाविक अंडोत्सर्ग चक्र की पहचान करने के दौरान 'यांत्रिक' गर्भनिरोधकों (जैसे कि हॉर्मोन युक्त या गैर-हॉर्मोन युक्त आइयूडी या डायफ़्राम्स) का सुरक्षित रूप से इस्तेमाल किया जा सकता है।

अंडोत्सर्ग दिन का अंदाजा लगाना क्यों जरूरी होता है?

  • योजना ही सबकुछ है! आपके शरीर की सबसे फ़र्टाइल अवधि अंडोत्सर्ग से लगभग 5 दिन पहले से आरंभ होती है और यह अंडोत्सर्ग के 12 से 48 घंटों के बाद समाप्त हो जाती है।
  • ऐसा इसलिए होता है क्योंकि कोई शुक्राणु आपके शरीर में प्रवेश करने के बाद 4-5 दिनों तक जीवित रह सकता है, जबकि अंडा निकलने के 12 से 48 घंटों तक जीवित रहता है।
  • यदि आपको अपने स्वाभाविक मासिक चक्र की अच्छी जानकारी है और अंडोत्सर्ग से पहले शरीर द्वारा दिए जाने वाले कई संकेतों और लक्षणों की पहचान करने की क्षमता है, तो आप अपने शरीर की सबसे फ़र्टाइल अवधि में ही यौन संबंध बना सकेंगी और इस प्रकार गर्भवती होने की आपकी संभावना बहुत अधिक बढ़ जाएगी।

अब जबकि मुझे अपने संभावित अंडोत्सर्ग के दिन का पता चल गया है, तो यौन संबंध बनाने का सबसे अच्छा समय क्या होगा?

  • फ़र्टिलिटी और गर्भ धारणा करने से जुड़े सभी विज्ञान और अंडोत्सर्ग के दिनों में होने वाली क्रियाओं से जुड़े व्यापक अनुसंधान के बाद भी हमें बहुत सारी जानकारी हासिल नहीं है।
  • सामान्यतः विशेषज्ञों का मानना यह है किअक्सर हरेक महिला का शरीर अलग-अलग तरीके से व्यवहार करता है।
  • अंडोत्सर्ग को कई कारक प्रभावित करते हैं और समय के रहते सबसे संभावित अंडोत्सर्ग दिन की पहचान करना कठिन होता है, इसलिए सबसे प्रभावी तरीका यह होता है कि आप अपनेअप्ने मासिक चक्र के दौरान नियमित रूप से हर 2 दिनों पर यौन संबंध बनाएँ।
  • यदि आप अंडोत्सर्ग के समय या उसके बाद के बजाय अंडोत्सर्ग से पहले यौन संबंध बनाती हैंतो गर्भवती ना बनने की काफी अधिक संभावना होती है, क्योंकि जिस समय तक शुक्राणु अंडे से जा मिलेगा तब तक आपने अपना ’मौका’ गंवा दिए होंगे ।