नए माता-पिता के लिए सुझाव

नए माता-पिता के लिए सुझाव

2 मिन |

पहली बार माता-पिता बनने के रूप में आप जल्द ही पाएंगे कि जिस क्षण आपके गर्भवती होने की खबर हर किसी तक पहुंचती है, या जब आपका पेट साफ-साफ दिखने लगता है तो हर कोई आपसे शिशु की परवरिश के अनुभव साझा करना चाहेगा। चिंता करें; सभी सार्थक सुझावों से अभिभूत हो जाना सहज बात है - सभी नए मां-बाप के साथ ऐसा होता हैजब आप नए परिवार की शुरूआत करने वाले होते हैं तो बहुत कुछ सोचना पड़ता है।

शुरुआत के लिए यहां कुछ मौलिक सुझाव दिए गए हैं जो आपको नए माता-पिता के रूप में खुद की भूमिका समझने में मददगार होंगे।

आपके माता-पिता आपकी परवरिश (पैरेंटिंग) को प्रभावित करते हैं

आपका परवरिश करने का तरीका आपके माता-पिता से प्रभावित होगा; फिर चाहे हम किसी भी विधि के बारे में सुनें, पढ़ें या उसके बारे में जानें। अंत में, हम अवचेतन रूप से  अपने खुद के बचपन की ओर देखते हैं जिनके आधार पर हमारी परवरिश करने की मूल अवधारणा निर्मित होती है। अपने बच्चे के लालन-पालन के लिए इस बारे में जो चीज़ें हमें पसंद होती है हम उन्हें पुनर्निर्मित करने की प्रवृत्ति रखते हैं और उन सभी चीज़ों को सुधारते हैं जिन्हें हम नापसंद करते थे।

नई स्थिति के अनुसार आर्थिक रूप से तैयार रहें

बच्चे होने से निस्सन्देह आपकी जीवन शैली और आपका घरेलू बजट बदल जाएगा । नवजात से लेकर उसकी वयस्कता तक - अपने बच्चे के जीवन के हर चरण के बारे में सोचें और इन सबमें आपके जो खर्चे बढ़ेंगे उनके बारे में सटीक योजना बनाएं।

अपने नवजात शिशु पर अनावश्यक खर्च करें

पहली बार घर में नया शिशु लाने का रोमांच आपको थोड़ा पागल बना देगा और आप अपने इस नए मेहमान के लिए सब कुछ खरीद लेना चाहेंगे। याद रखें कि अपने जीवन के शुरुआती वर्षों में आपका बच्चा तेज़ी से बड़ा होगा और आपकी खरीदी गई चीज़ें कुछ ही दिनों में उसके काम की नहीं रहेंगी, इसलिए हर चीज़ खरीदने से पहले सावधानी से विचार करें।

अपने बच्चे के लिए एक बचत खाता खोलें

बच्चे को धन की बचत के बारे में सिखाने का सर्वोत्तम तरीका है उदाहरण देकर बताना। यदि आप अपने बच्चे के लिए उसकी शिशु अवस्था में बैंक खाता खोलते हैं तो इसका उपयोग आप उन्हें यह दिखाने के लिए कर सकते हैं कि पैसे कैसे बढ़ सकते हैं और साथ ही इससे आप उन्हें समय के साथ धन की बचत करने की सीख भी दे सकते हैं।

आप अपने बच्चे को किस तरह का व्यक्ति बनाना चाहते हैं?

वह कौन सा पेशा अपनाएंगे इसकी बजाए जीवन में उनके मूल्यों और रुझानों पर ध्यान देना चाहिए। मन में एक अवधारणा रखें कि आप अपने बच्चे को कैसा व्यक्ति बनाना चाहेंगे, उदाहरण के लिए उदार, सामाजिक रुझानों वाला आदि। साथ ही, आध्यात्मिक या धार्मिक मान्यताओं पर भी विचार करें।

आपके बच्चे का पहला रोल मॉडल

आप अपने बच्चे का पहला रोल मॉडल हैं। अपने आपको जानें और वहीं रहें जो आप हैं, इस बात से वाकिफ रहें कि आप अपने बच्चे का पहला रोल मॉडल हैं और इसलिए उनके शुरुआती वर्षों और उनके विकास पर आपका सबसे अधिक प्रभाव पड़ता है।

अपने बच्चे से सीखें

अभिभावक होने का अर्थ हमेशा यह नहीं होता है कि आप अपने बच्चे को क्या-क्या सिखा सकते हैं, बल्कि यह भी है कि आपका बच्चा आपको क्या सिखा सकता है। कुछ माता-पिता कहते हैं कि अभिभावकता के बारे में सबसे मूल्यवान बात यह है कि वे अपने बच्चों के ज़रिए लगातार खुद अपनी खोज करते हैं।

संतुलित मार्गदर्शन और आजादी

अपने बच्चे का मार्गदर्शन करने और उन्हें अपनी स्वयं की राह ढूंढ़ने देने के बीच संतुलन होना चाहिए। कभी-कभी अपने बच्चे के अपने व्यक्तिगत विकास की गति से वाकिफ होना बेहतर होता है बजाए इसके कि उसने 12 महीनों में घुटने के बल चलना आरंभ नहीं किया इस बारे में चिंतित होना। उन्हें खुद से चीज़ों के बारे में सीखने देने से बच्चा आपके द्वारा सिखाए जाने की तुलना में अधिक सीखता है।

आपके बच्चे का हेल्थ केयर प्लान

अपने बच्चे के लिए एक हेल्थ केयर प्लान लें। इम्यूनाइज़ेशन (असंक्रमीकरण) और टीकाकरण हमेशा एक महत्वपूर्ण घटना होगी जिसकी आवश्यकता उसे  नवजात से लेकर किशोरावस्था तक होगी। इम्यूनाइज़ेशन चार्ट देखें और अपने बच्चे के लिए जरूरी इम्यूजाइज़ेशन और वैक्सीनेशन लेने के लिए अपने जीपी से मुलाकातकरें। साथ ही, आप निजी स्वास्थ्य बीमा के बारे में भी सोच सकते हैं या अपने बच्चे को फैमिली प्लान में शामिल कर सकते हैं।

बच्चे की सुरक्षा

अपने बच्चे की सुरक्षा के बारे में सोचें जब वह घुटनों के बल या खड़े होकर चलने लगे यदि आपके घर में कोई हिलने-डुलने वाला बुकशेल्फ हो, कम ऊंचाई की कॉफी टेबल पर कोई फूलदान या सीढ़ियां हो तो आपको ऐसा प्रबंध करना चाहिए कि उन सब की वजह से बच्चे को कोई चोट आए। 

अपने जीवनसाथी के साथ समय का संतुलन बनाएं

यदि आप अकेली मां नहीं हैं तो आपको अपने बच्चे के साथ-साथ अपने जीवनसाथी की ज़रूरतों को भी समझना होगा। घर पर नवजात शिशु के होने से अनुकूल होने की कोशिश करने के साथ-साथ आप दोनों के संबंध का खयाल रखनाशुरू-शुरू में संघर्षकारी हो सकता है। इस समय, दोनों के बीच संतुलन साधना आप तीनों के लिए बहुत ही हितकारी होगा। खासकर उन दिनों जब आप अपने बच्चे की देखभाल करते-करते थक जाएं और थोड़ा समय बाहर निकलना चाहें।

इस तथ्य के बावजूद कि आप पहली बार बच्चे का लालन-पालनकर कर रहे हैं, जल्द ही आप पाएंगे कि यदि आप अपने अंदर की आवाज़ को सुनते हैं तो - परवरिश करने के बहुत से पहलू आप अपने सहज बोध से समझ जाएंगे।