सभी श्रेणियां
चुस्त बच्चा
क्रिया और खेल
शिक्षण और विकास
डायपर टिप्स
टोडलर केयर पर विशेषज्ञ

अपने बच्चे का व्यवहार समझें

माता-पिता के रूप में अक्सर ऐसे प्रश्न आपके मन में आते हैं: "मेरे पड़ोसी के बच्चे की तरह, मेरा 2 साल का बच्चा, आज्ञाकारी क्यों नहीं है?” या "जब भी मैं फ़ोन कॉल पर हूँ, मेरा बच्चा क्यों अपने खिलोने हर तरफ फेंकर, रोता है '?
हालांकि हर बच्चा कई मायनों में अद्वितीय होता है, जबकि अधिकांश बच्चों में कुछ ऐसे व्यवहार देखे जाते हैं जिन्हें सांझा विचार प्रक्रियाओं से जोड़ा जा सकता है। यह जितना भी मुश्किल लगे, आपके बच्चे की परवरिश किसी भी तरह से जंगनहीं होनी चाहिए.आप अपने बच्चे के व्यवहार को जितना अधिक समझना शुरू करेंगे,उनकी बड़े होने की प्रक्रिया उतनी ही अधिक मज़ेदार होगी! आपको आपके बच्चे के व्यवहार के कुछ पहलूओं को तेजी से समझने में हम आपकी सहायता के लिए हाज़िर हैं। यह प्रक्रिया उनके दुर्व्यवहार के इरादे और कारण को समझने से शुरू होती है। इसकी शुरूआत के लिए हमें समझना होगाकि प्रत्येक व्यक्ति का व्यवहार सापेक्ष और व्यक्तिपरक होता है।इसीलिए, प्रत्येक माता-पिता की किसी विशेष व्यवहार के प्रति प्रतिक्रिया भी अलग-अलग होती है।मिसाल के तौर पर, एक बच्चे का अपने खिलौने उठाने से इनकार करनाकिसी माता-पिता को मामूली दुर्व्यवहार लग सकता है, लेकिन किसी दूसरे को यह असहनीय व्यवहार लग सकता है। आप जानते होंगे कि शिशु और छोटे बच्चे वर्तमान में विद्यमान चीज़ों के प्रति प्रतिक्रिया देते हैं।जब बच्चे किसी चीज़ की मांग करते हैं तो चाहते है कि यह मांग उसी समय पूरी हो !या फिर वे चिल्लाते, काटते, लात मारते, या तंग करसकते हैं. वे अक्सर अपने व्यवहार के दीर्घकालिक प्रभावों को नहीं समझ सकते हैं।

बच्चों का व्यवहार निर्धारित करने में 3 मुख्य अंतःसंबंधित कारकों की भूमिका है।आइए, हरेक पर नज़र डालते हैं:

1. स्वभाव
सबसे पहले हम आनुवंशिकता या बच्चे का स्वभाव देखते हैं।
स्वभाव या बच्चे की अनुवांशिक संरचना यह निर्धारित करती है उत्तेजना की प्रतिक्रिया के तौर पर कोई व्यक्ति किन विशेष ढंग से व्यवहार करता है।भावात्मकता, गतिविधि के स्तर और मिलनसारिता अवांछनीय व्यवहार के विकास सेसंबंधित प्रतीत होती है।
भावनात्मकता का अर्थ है - पर्यावरण में हो रहे घटनाक्रम के प्रति आपके बच्चे की प्रतिक्रिया।किसी अजनबी को देखने या किसी अजनबी की बोली से कोई बच्चा परेशान हो सकता है लेकिन दूसरे पर इसका असर नहीं होता है।
गतिविधि स्तर का अर्थ है - बलपूर्वक गमनागमन और गतिविधि में आपके बच्चे की ऊर्जा का प्रदर्शन।क्रियाशील बच्चे को कम गतिविधि स्तर वाले शिशु की तुलना में माता-पिता और देखभाल करने वालों द्वारा निर्धारित भौतिकसीमाएं स्वीकार करना अधिक मुश्किल लगता है।
मिलनसारिता का अर्थ है - आपके नन्हें मुन्ने का लोगों से मिलने जुलने और बातचीत करने के प्रति झुकाव।अत्यंत मिलनसार बच्चा, जो हर समय अपनी ओर ध्यान आकर्षित करना चाहता है,
उस शिशु की तुलना में जो केवल भूखलगने या गीले होने पर ध्यान आकर्षित करना चाहता है,अधिक सामाजिक संपर्क चाहेगा।

2. पारिवारिक वातावरण
अनुचित व्यवहार की संभावना पैदा करने वाला यह शायद सबसे महत्वपूर्ण कारक है।
आपकी कार्य सूची,वैवाहिक समस्याएं,और परवरिश का तरीका अनुचित व्यवहार के परिमाण,आवृत्ति और तीव्रता को प्रभावित कर सकते हैं।
व्यवहार संबंधी समस्याएँ कामकाजी माता-पिता की नियमित शिकायत रही है। ऐसा इसलिए होता है,
क्योंकि बच्चे निरंतर अपने माता-पिता का ध्यान आकर्षित करना चाहते हैं,
क्योंकि माता-पिता उनके पहले मित्र होते हैं। कामकाजी माता-पिता के मामले में थकान के कारण समय की कमी और ध्यान ना देना प्रमुख कारक हैं।
निस्संदेह इसका अर्थ यह नहीं है कि आपको अपने व्यवसाय छोड़ देनी चाहिए। दिन के समय में से कुछ घंटे निकाल कर पूरी तरह से अपने नन्हें मुन्ने के लिए रखें।अपने जीवनसाथी के
साथ मिलकर ऐसी योजना बनाएं,
जिसमें आप दोनों में से कोई एक दिन के किसी भी समय बच्चे के साथ समय बिता हो।
और यदि इनमें से कोई भी विकल्प व्यवहार्य नहीं है तो सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे को करीबी रिश्तेदारों या दोस्तों के पास छोड़ें जहाँ उन पर ध्यान दिया जाए!

3.सीखने और अनुभव की भूमिका
आपका बच्चा अन्य लोगों और अपने आसपास के पर्यावरण से बातचीत करना सीखेगा।
जीवन के पहले कुछ महीनों में देखभाल करने वाले प्रमुख लोगों और शिशुओं के बीच की बातचीत से यहअक्सरनिर्धारित होता है कि वे आने वाले समय में अपने आसपास के अन्य लोगों के प्रति कैसी प्रतिक्रिया
और उनसे कैसे बातचीतकरेंगे।उदाहरण के लिए, यदि उनके तंग करने,
रोने या चीखने के परिणामस्वरूप उन्हें कोई मिठाई मिलती है तो
संभवतया उनका अनुचित व्यवहार जारी रहेगा और बच्चे के विकास के
साथ साथ विभिन्न रूपों में नज़र आएगा।

जब बच्चे कोई गलत व्यवहार करते हैं तो सम्भवतया उनके अनुचित व्यवहार के पीछे कोई न कोई सोच अवश्य होती है।दुर्व्यवहार के पीछे चार मुख्य उद्देश्य होते हैं, और ध्यान रखें, ये सार्वभौमिक हैं।हर बच्चा ऐसी भावनाएं प्रदर्शित करताहै, इसलिए आप अकेले नहीं हैं!ये भावनाएं हैं:

ध्यान आकर्षित करने की इच्छा: कभी-कभी बच्चे आपका ध्यान अपनी ओर आकर्षित करने के लिए दुर्व्यवहार करते हैं।
बदला: बच्चे कपटपूर्ण या हानिकारक चीजें कर के बदला ले सकते हैं।
अधिकार की इच्छा: बच्चे अक्सर अपने माता-पिता को अपनी अधिकार और नियंत्रण की इच्छा पूरी करने की चुनौती देते हैं।
लाचारी: जो बच्चे स्वयं को नालायक समझते हैं या कोई काम नहीं कर पाते हैं, वे अक्सर अनुचित व्यवहार के रूप में अपनी प्रतिक्रिया देते हैं।
अतिसंरक्षित बच्चों के मामले में उनके निराश और असहाय होने की अधिक संभावनाहोती है।
लेकिन दुर्व्यवहार से कैसे निपटें?जब आप इसका तह तक जाते हैं तो आप देखेंगे कि यह वास्तव में इतना मुश्किल नहीं है।पहला कदम हमेशा अनुचित व्यवहार के उद्देश्य को पहचानने के लिए सीखना चाहिए ।इससे आपको यह समझने मेंमदद मिलेगी कि आपका बच्चा दुर्व्यवहार क्यों करता है, और इसलिए तदनुसार उन्हें प्रबंधित करें।

1.दुर्व्यवहार को पहचानें कि आप इसके बारे में कैसा महसूस करते हैं।
ध्यान देने की इच्छा आपको नाराज महसूस करवाती है।
अधिकार की तलाश आपको क्रोधित महसूस करवाती है।
बदला आपको चोट पहुंचाता है।
निस्सहायता आपको निराशाजनक महसूस करवाती है।
देखें कि आप दुर्व्यवहार पर कैसे प्रतिक्रिया करते हैं।

2.ध्यान देने की इच्छा आपको याद दिलाती है, मनाना, तंग करना और समझाना।

अधिकार की मांग आपको लड़ने या हार मानना करवाती है।
असहायता आपको समस्या को हल करना बताती है।

3.दुर्व्यवहार करने वाले बच्चे के परिणामों का निरीक्षण करें।
ध्यान देने की मांग लोगों को देखने और बच्चे से बात करने का कारण बनती है।
अधिकार की मांग लोगों को खड़े होने और बच्चे की निगरानी करने का कारण बनती है।
बदला लोगों को बच्चे को दंडित करने, या उनके साथ तर्क करने का कारण बनती है।
असहायता लोगों को बच्चे की देखभाल और रक्षा करने का कारण बनती है।
निम्नलिखित परिदृश्यों में, खुद से पूछें कि आप माता-पिता के रूप में कैसा महसूस करते हैं, आप अपनी प्रतिक्रिया के बारे में कैसा महसूस करते हैं और बच्चे के अनुचित व्यवहार का उद्देश्य क्या है।

व्यवहार को वर्गीकृत करने के तरीके के बारे में जानने के लिए यहां कुछ उदाहरण स्थितियां दी गई हैं:

संवाद 1
माता-पिता:" अयान क्या नहाने में मज़ा आया ?अब आप साफ और सूखे हैं।मम्मी /डैडी आपको थोड़ी देर के लिए अपने बिस्तर पर डालेंगे। "
(चल-फिरने वाला बच्चा विवान आता है और आयान को मुक्का मरता है ।)
माता-पिता:"नहीं, विवान!आपको अपने छोटे भाई को ऐसे नहीं मरना चाहिए।तुम शरारती लड़के हो। "
यह परिदृश्य बदला लेने का वर्णन करता है।

संवाद 2
विवान:"मुझे अपना पावर रेंजर नहीं मिल रहा है!"
माता/पिता:"यह आपके खिलौने के डब्बे में है जहां आप इसे हमेशा रखते हैं।"
विवान:"मैंने वहां देखा लिया है।वहां पे नहीं था। "
माता/पिता:"जाओ और फिर से देखो।आज सुबह वहीं पे था। "
विवान:(खिलौना डब्बे में देखकर) मुझे अभी भी वह नहीं मिल रहा है, मम्मी / डैडी।
माता/पिता:"भलाई के लिए!"
(डब्बे के पास जाता हुऐ)
" वह यहां है, जहां मैंने कहा था वहीं है ।ऐसा क्यों है कि मुझे छोड़कर कोई भी यहां कुछ भी नहीं ढूंढ सकता? "
यह परिदृश्य असहायता को दर्शाता है।

संवाद 3  माता/पिता:"चलो, विवान। अब आपके खिलौनों को रखने का समय है। " (विराम)
"विवान, कृपया अपने खिलौनों को रख दो।"
(विराम)
विवान, अगर आप अपने खिलौनों को नहीं रखेंगे तो मैं आपको मारूंगा। चलो, मैं मदद करूंगा। हाँ, मैंने ट्रक को डब्बे में रखा दिया है।
यह अधिकार की मांग को दर्शाता है।

संवाद 4 माता/पिता:" मैं अभी शिवानी चाची फोन करूंगी और उसके साथ शॉपिंग करने जाऊंगी ।" (फोन डायल करती है)।
"नमस्ते?
ओह शिवानी, आदिती बोल रही हूँ , इस हफ्ते शॉपिंग करने के बारे में क्या विचार है? "
(बेटा रोना शुरू करता है और अपने खिलौनों को फेंकता है।)
"एक मिनट, अदिति।"
(फोन को अलग रखती है)
"विवान रुक जाओ ! तुम शरारती हो । माँ फोन पर है। "
(फोन पर कहती है)
"मुझे खेद है, शिवानी। विवान तो हमेशा ऐसा ही करता है, जब मैं फोन पर होती हूँ। "
(शोर फिर से शुरू होता है)
"ओह प्रिय, उसने अपना खिलौना तोड़ दिया। शिवानी, क्या उसके सोते समय आपको वापस रिंग कर सकती हूँ ? बाय” ।
यह परिदृश्य ध्यान देने की ओर इशारा करता है।

दुर्व्यवहार पर विचार करते समय, यह हमेशा महत्वपूर्ण है कि शामिल कारकों को समझें।
यह जानकर कि आपका बच्चा अनुचित व्यवहार क्यों दिखाता है और उसके उद्देश्य क्या हैं,
आपको इन व्यवहारों का सामना करने के दौरान क्या करना है इसके बारे में बेहतर निर्णय लेने में मदद मिलेगी।
यह मानव प्रकृति की सरल समझ है जो आपको अपने बच्चे के "बुरे व्यवहार" को संभालने की बात आती है।

रोचक आलेख

Biểu đồ từ mang thai đến ngày sinh nở
सक्रिय शिशु 1/27/2020

आपको कल्पनात्मक खेलों के बारे में पता होना चाहिए

कल्पनात्मक खेल या जिसे आप नाटक कह सकते हैं, आमतौर पर अपने शिशु के साथ समय बिताने का मज़ेदार तरीका मालूम पड़ता है।लेकिन वास्तव में इसके बहुत सारे फायदे हैं।इससे इंद्रियों को उत्तेजना मिलती है, खोजबीन और रचनात्मक सोच के अवसर पैदा होते हैं, और आपके बच्चे...

Biểu đồ từ mang thai đến ngày sinh nở
सक्रिय शिशु 1/27/2020

अपने बच्चे को बिस्तर गीला करने पर काबू पाने में

शर्म और अपराधबोध दो प्रमुख भावनाएं हैं जो बहुत से बच्चों में बिस्तर गीला करने से जुड़ी हैं। शुरुआत में ही माता-पिता के

Biểu đồ từ mang thai đến ngày sinh nở
सक्रिय शिशु 1/29/2020

Everyone tells new parents to expect the unexpected when they’ve delivered, but there are certain facts about your little bundle of joy that will shock you. For example, did you know that a newborn baby cannot taste salt? Here is a list of...

विषय के साथ आलेख