29 हफ्ते का गर्भ है-क्या उम्मीद की जाए?

29 हफ्ते का गर्भ है?

2 min |

29वें हफ्ते में, शिशु थोड़ी तंग स्थिति में महसूस करना शुरु कर देता है और बढ़ते हुए ऊर्जा स्तर के कारण काफी सक्रिय होता है। अब तक, आपको शायद शिशु की गतिविधियों को महसूस कर उसके व्यक्तित्व का पता चलने लगता है। उन लातों के झटकों और घूंसों से आप पहचान सकती हैं कि आपको एक सौम्य डांसर या कोई सक्रिय निंजा मिल गया है!

आपके शिशु के वायु मार्गों का विकास हो रहा होता है। नन्हे पेड़नुमा संरचनाओं के साथ, ब्रॉन्कियोल्स (श्वासनलिका) और एल्वियोली की संख्या बढ़ रही होती है। समय पूर्व जन्म होने की स्थिति में भी उसके जिंदा रहने की संभावना अधिक हो जाती है। आपके डॉक्टर के लिए यह बताना कठिन हो जाता है कि आपका शिशु किस पोज़िशन में है क्योंकि हड्डीदार सिर को आसानी से एक गोल निचला हिस्सा समझा जा सकता है और आपका शिशु इतना गतिशील होता है, कि निश्चित रूप से यह बताना मुश्किल हो जाता है कि उसका मुख किस ओर को है। 

इस हफ्ते आपके शरीर में होने वाले बदलाव

तीसरा ट्राइमेस्टर एक ऐसा समय है, जब कई महिलाओं को उनके शरीर के तापमान में एक वास्तविक बदलाव नज़र आने लगता है। आपको काफी गर्मी लगने का अनुभव हो सकता है और एसी चलाने का मन कर सकता है, जबकि अन्य लोग सर्दी से लगभग कांप रहे होते हैं। आपका शरीर अतिरिक्त वज़न ढो रहा होता है और शिशु की स्थिति के आधार पर निर्भर होता है, क्योंकि वह जो भी उपलब्ध होती है उस पर दबाव डाल रहा होता है। इसके साथ ही, आपके जोड़ और लिगामेंट प्रसव की तैयारी में मुलायम हो रहे होते हैं और अधिक शिथिल हो जाते हैं। साथ ही, अब शिशु न केवल अधिक गतिविधियां करता है बल्कि ऊपर की ओर धक्का भी लगाता है। और जैसे कि आपका शिशु आपके पाचन तंत्र पर दबाव डालना जारी रखता है, तो इससे आपको उसका असर दिखाई पड़ने लगेगा: जिसकी अपेक्षा आपके पिछले अनुभव के अनुसार की जा सकती है।

इस हफ्ते के सुझाव

 

  • आपका रक्त किस स्तर पर है और क्या आपको आयरन सप्लीमेंट की जरूरत है, इसका पता लगाने के लिए अब आपको ब्लड टेस्ट कराने की जरूरत होगी। आपको अपना ब्लड ग्रुप चेक करवाने और एक एंटीबॉडी स्क्रीन करवाने की भी जरूरत हो सकती है। कुछ पेल्विक फ्लोर व्यायाम आजमाएँ।
  • अपनी पेशियों को एक स्लिंग की तरह मानिए, जो आपके पेल्विक हिस्से में सभी अहम अंगों और ऊतकों को संभाले रखती हैं। आपके मूत्राशय, गुदा, योनि, सर्विक्स (गर्भाशय ग्रीवा) तथा गर्भाशय को उन सभी मदद की ज़रुरत होगी, जो उन्हें ऊपर की ओर सीधा रख सके, अच्छी तरह से सहारा प्रदान कर सके और उनकी सभी सही पोज़िशनों में सुरक्षित बनाए रख सकें।
  • आपकी पीठ पर सबसे ज्यादा खिंचाव पड़ने का जोखिम बना रहता है। वज़न और आपके बाहर निकले उभार को संतुलित करने के लिए, आपकी पीठ अब से अपने आप अंदर की ओर झुक जाएगी। इसके अलावा, चलने-फ़िरने पर आपके पैर थोड़ी दूर-दूर पड़ेंगे।