Play and feed for your baby to sleep well

Join Huggies now to receive week by week pregnancy newsletters.
Back to सोने का समय

खेलना और सोना आपके शिशु की नींद को किस प्रकार प्रभावित करता है

2 min |

खाना/खेलना/सोना अच्छी दिनचर्या निर्धारित करने के महत्वपूर्ण अंग हैं।  ये 3 चरण अलग-अलग होने चाहिए।

  • खाना आपके हाथों में है
  • आपको खेलना चाहिए
  • सोना चारपाई पर होना चाहिए

 

खाने / खेलने / सोने की दिनचर्या निर्धारित करने से आप थकान के संकेतों को देखने और पहचानने में सक्षम हो जाएंगे। जब आप शिशु में थकान के संकेत देखें और आप जानते हैं कि उसे खाना खिलाया जा चुका है तो आपको तत्काल उसे आराम देने की तकनीक लागू करनी चाहिए।  अपने शिशु के भूख लगने, उसके थकने और चिड़चिड़ा होने तक प्रतीक्षा करें अन्यथा वह आपकी बाहों में सो सकता है। 

इसका अर्थ यह नहीं है कि उसके प्रति प्यार और उसे सीने से लगाने की कुर्बानी दे रहे हैं। ये कार्य जितना हो सके उनके खेलने के समय में करने चाहिए, और याद रहे कि आप अभी भी उसे अपनी बाहों में खाना खिला रहे हैं, बस अंतर केवल इतना है कि आप उसे अपनी बाहों में सोने नहीं दे रहे हैं।

क्या आप यह सोच रहे हैं कि थकान के संकेतों को किस प्रकार पहचाना जाए? आप ऐसा निम्नलिखित तरीकों से कर सकते हैं

थकान की वजह से रोना, भूख की वजह से रोने से अलग होता है। आप आमतौर पर देखेंगे कि आपका बच्चा कुछ देर के लिए खुशी से फर्श पर खेल रहा होगा और फिर बिना किसी कारण उबासी लेना, सुस्त होना, आंखें मलना अथवा अपनी पीठ को झुकाना शुरू कर देगा।  ये थकान के विशिष्ट संकेत हैं।

अन्य संकेतों में शामिल हैं:

  • खाना चाहना
  • उठाने पर खुश होना
  • बिठाने पर खुश होना
  • अपेक्षाकृत बड़े बच्चे शैतानी कर सकते हैं

यदि आप ये संकेत देखें तो समझ जाएं कि 'बच्चे को सुलाने का समय हो गया है'...