जब आपका शिशु बढ़ता है तो उसके साथ खेलें

Join Huggies now to receive week by week pregnancy newsletters.
Back to क्रिया और खेल

जब आपका शिशु बढ़ता है तो उसके साथ खेलें

2 min |

आपका शिशु पर्यावरण के बारे में और इसके साथ अंत:क्रिया करने के बारे में एक बहुत ही महत्‍वपूर्ण क्रिया-कलाप के माध्‍यम से सीखता है, वह है – खेलना।  माता-पिता के रूप में आपको अपने शिशु को नई चीजें उठाने, घुटनों के बल चलने और अपने आसपास की चीजों के बारे में जानने के लिए अवश्‍य प्रोत्‍साहित करना चाहिए। 

यह लेख यह जानने के लिए एक मार्गदर्शक है कि बच्‍चे अलग-अलग आयु में कैसे खेलते हैं, और उनके खेलने के लिए सही उपकरण कैसे चुनें। 6 माह तक की आयु का शिशु। 

  • पहले म‍हीने के अंत तक आपके शिशु की चेतना पूरी तरह से विकसित नहीं होती है।वे केवल उन्‍हीं वस्‍तुओं को देख सकते हैं जो उनकी आंखों से 8-14 इंच की दूरी पर होती हैं। 
  • मधुर आवाज और संगीत, आपका दुलार करना और गाना सुनना उनको अच्छा लगता है। 
  • लगभग 3-6 माह की आयु में, आपका शिशु अपनी उंगलियों को चूस सकता है और यदि उसे कोई खिलौना पकड़ाया जाए तो उसे पकड़ सकता है। किसी चीज को पकड़ना आपके शिशु के समग्र विकास के लिए बहुत ही महत्‍वपूर्ण है।
  • वह अपने आप खिलौने तक पहुंचने लग जाएगा और वह इसे अपने एक हाथ से दूसरे हाथ में ले सकता है।  
  • आप अपने शिशु को बड़े, रंगीन और आवाज एवं संगीत वाले खिलौने देने पर विचार कर सकते हैं, हो सके तो गतिशील खिलौने, जैसे चाबी से चलने वाली कार । 
  • सुनिश्चित करें कि आप जो खिलौने लेकर आएं वे चबाने के लिए सुरक्षित हों क्‍योंकि इस स्‍तर पर बच्‍चा चीजों को मुंह में लेना पसंद करता है!

6 से 12 माह तक की आयु का शिशु 

  • लगभग 9 महीने की आयु में आपका बच्‍चा यह जानने लग जाता है कि कोई वस्‍तु भले ही उसे दिखाई न दे रही हो पर वह मौजूद है। उनके पसंदीदा खिलौने को उनके कंबल के नीचे छिपा दें और वाह, वे उसको खोज लेते हैं!
  • आपका बच्‍चा उत्‍तरोत्‍तर गतिशील हो रहा है – घुटना के बल चलता है, खड़ा होने और चलने का प्रयास करता है। 
  • वह अपने हाथों का इस्‍तेमाल करने में भी अधिक निपुण हो रहा है, फर्श पर जो कुछ मिलता है उसे उठाता है और मुंह में डाल लेता है।  
  • इस स्‍तर पर उसे गेंद देना बहुत अच्‍छा रहेगा। वे उसे पकड़ना और इसे चारों ओर उछालना बहुत पसंद करेंगे।
  • लगभग 9 महीने के बाद से, उन्‍हें आकृति व्‍यवस्थित करने के खिलौने अच्‍छे लगने लगते हैं, जो उनकी समस्‍या-समाधान की क्षमता की जांच करते हैं। 
  • जब आपका शिशु चलने लगता है तो उसे खिलौनों को इधर-उधर धकेलना और फेंकना भी अच्‍छा लगता है। 

12-24 माह आयु के शिशु 

  • इस स्‍तर तक बच्‍चा घर के हर कोने को खोजना शुरू कर देता है।
  • अब उनके हाथ भी अधिक समन्वित हो जाते हैं, इसलिए वे छोटी-मोटी ड्राइंग भी कर लेते हैं और अपने खिलौनों को व्‍यवस्थित करना सीख लेते हैं। 
  • वे अपने खेल में अधिक प्रयोगशील हो जाते हैं, उदाहरण के लिए, “यदि मैं यह कटोरा गिरा देता हूं तो क्‍या होगा?” 
  • उनकी जिज्ञासा किसी कार्य को बार-बार करने के लिए प्रेरित करती है ताकि उसे उस कार्य में निपुणता हासिल हो सके। आपका बच्‍चा निरंतर अपनी सीमाओं को परखता रहेगा और अपनी आत्‍म-निर्भरता पर बल देने लगता है। 
  • नि:संदेह, उन्‍हें गुस्‍से से झुंझलाहट आने लगेगी क्‍योंकि वे जो सोच रहे होते हैं उसे और अधिक व्‍यक्‍त करना शुरू कर देते हैं। 
  • पहले से अधिक सक्रिय बच्‍चा दैनिक जीवन में माता-पिता की नकल करने लगता है। 
  • आपके बच्‍चे को ऐसे खेल अच्‍छे लगते हैं जिसमें वह शारीरिक रूप से शामिल है इसलिए उन्‍हें धकेलने और खींचने वाले खिलौने दें।  उन्‍हें बड़े बिल्‍डिंग ब्‍लॉक दें क्‍योंकि उनके हाथ अधिक समन्वित हो गए हैं और वे अधिक कुशलता से ढेर लगा सकते हैं। 
  • आप उन्‍हें क्रेयान का सेट भी दे सकते हैं (आदर्शत: गैर-जहरीली प्रकृति के) और अस्पष्ट लिखने के लिए कागज दे सकते हैं। 
  • अपने बच्‍चे को ऐसा सुरक्षित स्‍थान प्रदान करें जहां वे चढ़ने, छिपने, फिसलने  जैसे क्रिया-कलाप कर सकें और अपने उभरते सकल गत्‍यात्‍मक कौशलों का अभ्‍यास कर सकें।
  • इस आयु में पहेलियां दिलचस्प लगती हैं, क्‍योंकि अब आपका बच्‍चा समस्‍या का समाधान करने और प्रयास एवं गलतियों से सीखने में अधिक सक्षम हो जाता है। 
  • छोटे-छोटे यंत्रों से संगीत बजाना रोमांचक होता है क्‍योंकि इससे वे लय और धुन का विचार सीखते हैं। 
  • माता-पिता के रूप में आपकी भूमिका 
  • माता-पिता के रूप में आपको यह समझना चाहिए कि आप अपने बच्‍चे के सबसे अच्‍छे दोस्‍त हैं। उन्‍हें आपके आसपास रहना अच्‍छा लगता है और वे हमेशा आपके साथ खेलना पसंद करते हैं। 
  • अध्‍ययनों दर्शाते हैं कि उन माता-पिता के बच्‍चे रचनात्‍मक होते हैं जो खुद बच्‍चों के साथ खेलते हैं। 
  • कभी भी अपने बच्‍चे के साथ खेलने से झिझके नहीं। इससे कुछ अच्‍छे अनुभव प्राप्‍त होते हैं। 

अपने बच्‍चे के साथ खेलने के लिए प्रतिदिन समय निकालना उससे जुड़ने का बहुत अच्‍छा तरीका है, इसलिए आगे बढ़ें और अपने बच्‍चे के साथ खेलने का समय निकालें!