Playtime Essentials For Your Baby's Growth

Join Huggies now to receive week by week pregnancy newsletters.

आपके शिशुशिशु के विकास के लिए प्लेटाइम अनिवार्यताएं

2 min |

एक शिशुशिशु की शिक्षा खेल के बिना कुछ भी नहीं है। माता-पिता के लिए अपने घर के वातावरण को शिशुशिशु की विकास और प्रगति संबंधी आवश्यकताओं के अनुसार व्यवस्थित करना महत्वपूर्ण है। यहां पहले वर्ष के दौरान ध्यान में रखने योग्य कुछ बातें बताई गई हैं माता-पिता के रूप में आप शिशुशिशु के पहले वर्ष के दौरान बहुत कुछ चबाने, पकड़ने और गिराने की उम्मीद कर सकते हैं।

  • फर्श को अक्सर और अच्छी तरह से साफ करना और सभी विषैले पदार्थों को शिशुओं की पहुंच से दूर रखना सुनिश्चित करें।
  • अपने शिशुशिशु के स्तर पर असली वस्तुओं, जानवरों और लोगों की तस्वीरें रखें। अपने शिशुशिशु के स्तर पर असली वस्तुओंजानवरों और लोगों की तस्वीरें रखें। कार्टून की तस्वीरें अथवा अमूर्त कला कृतियां रखने से बचें। आपके शिशुशिशु को अपने पहले वर्ष में वस्तुओं को उसी रूप में देखना आवश्यक है जैसी वे हैं।
  • यदि आपका शिशुशिशु घुटनों के बल चलना शुरू कर देता है तो उसके अनुभव के लिए विभिन्न बुनावट के कपड़े जैसे कि रेशमी, सूती, ऊनी और विनायल बिछायें। शिशुशिशु संवेदी तरीके से सीखने के लिए अपनी संवेदनशील अवधि में होते हैं। वे सक्रिय रूप से अपने आस-पास की जानकारी को ग्रहण कर रहे होते हैं।
  • यह बहुत मनोरंजक हो सकता है कि आपके शिशुशिशु को अपनी छवि अच्छी लगती है और वह उसका आनंद उठाता है। बेडरूम में कम ऊंचाई पर दर्पण लगाना एक रोचक विचार हो सकता है। आपका बच्चा स्वयं को और कमरे की हर चीज के प्रतिबिंब को दर्पण में देखकर खुश होगा।
  • जल्दी ही आपका शिशु चढ़ना सीखने लगेगा। कई सारे तकिए अथवा गद्देदार वस्तुएं डालकर उसे चढ़ने के लिए प्रोत्साहित करें। इस प्रकार यदि उसका संतुलन बिगड़ भी जाता है तो भी आप और तकिए उसे कोई नुकसान नहीं पहुंचने देंगे।  
  • बच्चों के अनुकूल पार्क जैसे स्थान शिशुशिशु  को बाहर ले जाने के लिए आदर्श स्थान होते हैं। बाहर जाने में ऐसा कुछ है जो विकास और सीखने को और अधिक रोमांचक और फायदेमंद बना देता है। 
  • अपने शिशुशिशु  के लिए गाना गाएं।आपकी आवाज की ध्वनि वस्तुत: उसके कानों के लिए संगीत के समान है। यदि आपको यह अच्छे से आता है तो आप कोई यंत्र बजा सकते हैंजैसे गिटार।इससे उसके खेलने का समय अधिक मनोरंजक हो जाता है।
  • जब वह आपको खेल में आकर्षित करें तो पूरी तरह से उसका अनुसरण करें। आप अपने शिशुशिशु का मार्गदर्शक बन सकते हैं दिखाने के लिए कि यह दुनियारहने के लिए सुरक्षित, अनुकूल और दिलचस्प जगह है। 

            2nd वर्ष..

  • जब आपका बच्चा दूसरे वर्ष में प्रवेश करता है तो उसे आत्म-निर्भरता चाहिए होती है। वह अपनी मां के हाथ से चम्मच छीनने की कोशिश करता है और प्रत्येक चीज स्वयं करने का प्रयास करता है। वह अपने पिता के व्यवहार की नकल करता है।यह कॉपीकैट गेम्स खेलने का एकदम सही समय है।   जब माता-पिता अपने शिशुशिशु के साथ इस प्रकार के संवादात्मक (इंटरैक्टिव) गेम्स खेलते हैं तो शिशुशिशु कई प्रकार के कौशल सीख सकते हैं। 
  • क्या आप जानते हैं कि आपकी दैनिक दिनचर्या आपके शिशु के लिए ‘खेल’ हो सकती है?  क्या आप जानते हैं कि आपकी दैनिक दिनचर्या आपके शिशु के लिए ‘खेल’ हो सकती है?  चाहे वह फर्श पर पानी डालता हो और उसे स्वयं साफ करता हो अथवा डस्टर से डस्टिंग करता हो तो उसके ये नए व्यवहार हाल ही में माता-पिता बने लोगों के लिए निराशाजनक हो सकते हैं। स्वतंत्र कौशल विकसित करने में शिशु  की मदद करने के लिएमाता-पिता को अपने शिशु के लिए ऐसा माहौल बनाना चाहिए कि वह अपनी मर्जी से घूम-फिर सकें और तय करें कि वह खुद के लिए क्या कर सकता है। शिशुओं को बिना किसी वयस्क व्यक्ति के पर्यवेक्षण केआदर्शत: एक कुर्सीएक मेज और एक अलमारी अथवा शेल्फ की आवश्यकता होती है। वयस्क लोगों को यह समझना चाहिए कि शिशु  को व्यवहारिक जीवन कौशल जैसे उडेलनाचम्मच से उठानापोंछना और गीले कपड़े को निचोड़ना आना चाहिए।   यह उनके अपने घर के माहौल का एक हिस्सा है जहां वे अपने माता-पिता को इस तरह से काम करते हुए देखते हैं।
  •  यह उनके अपने घर के माहौल का एक हिस्सा है जहां वे अपने माता-पिता को इस तरह से काम करते हुए देखते हैं।  शिशु   दिलचस्पी और उत्साह से भरपूर होते हैं। अपने शिशु  को खाना तैयार करने के आसान कार्य सिखाएं, जैसे ब्रेड पर जैम लगाना।  बच्चा इस काम को खेल समझता है। जब आपके शिशु  में अपनी देखभाल स्वयं करने के कौशल विकसित हो जाते हैं तो उसकी अपने प्रति सकारात्मक छवि बन जाती है।   वह अधिक आत्म‍-विश्वासी बनेगा। जो शिशु व्यवहारिक जीवन क्रिया-कलापों में व्यस्त रहते हैं वे किसी उद्देश्य के साथ काम करते हैं। वे आमतौर पर शांत और प्रसन्न रहते हैं क्योंकि उनका कार्य संतोषजनक होता है।
  • शिशुओं के लिए खिलौने और उपकरण चुनते समयलकड़ीकपड़ेधातु और प्लास्टिक की वस्तुओं का संकलन चुनना अच्छा रहेगा। खिलौना जितना सजीव होगाबच्चा उतना ही अधिक खुश होगा। उसे खेलने के लिए अपने कुछपुराने कपड़ेब्रीफकेसबटुआपत्रिकाएं और यहां तक की लकड़ी की चम्मचें देना उसके लिए मजेदार हो सकता है।

            3rd वर्ष....

  •             यह कहावत सही है कि लोग और कल्पनाएं एक-दूसरे के बहुत अच्छे जोड़ीदार हैं। तीसरे वर्ष में प्रवेश करने पर शिशु  का खेल अपेक्षाकृत अधिक जटिल हो जाता है।
  • यदि आपके शिशु  ने तेज दौड़ना शुरू कर दिया है तो क्रिया कलापों में उसकी रुचि बढ़ाने के लिए उसे एक झाड़ू अथवा स्कार्फ दे देंयहां तक कि जब शिशु बाथटब में पानी उछालते हैं तो छेदयुक्त कप से उन्हें पानी उडेलने केएक और आयाम का पता चलेगा।
  • जब आपके शिशु  की आयु प्रीस्कूल में जाने की हो जाती है तो उसे अन्य बच्चों के साथ खेलने की आवश्यकता होती है दोस्त शिशु  को सीखना और साझा करनामिलनसार बननासहयोग करना और दूसरे के दृष्टिकोण से देखनासिखाते हैं दिन में कम से कम कुछ देर के लिए अपने पड़ोसी के शिशु  को खेलने के लिए घर में बुलाना अच्छा रहता हैयदि ऐसा संभव नहीं हैतो अपने शिशु  को समूह में समय बिताने के लिए प्लेग्रुप में अथवा नर्सरी स्कूल में भेजें।
  • अपने शिशु  को खेलने की सभी प्रकार की वस्तुओं के बारे में जानने के लिए प्रोत्साहित करें। खिलौनों को लड़कों के खिलौने और लड़कियों के खिलौने के रूप में परिभाषित करने से बचें। सभी चीजों को लिंग समानता के आधार पररखें क्योंकि आपके शिशु  को जो कुछ ठीक प्रकार से पढ़ेंगे वही सीखेंगे।
  • यदि घर की संस्कृति किसी एक जातियता तक सीमित नहीं है तो शिशु  को इससे अधिक फायदा होगा। सभी प्रकार की जातियता से संबंधित खाना परोसने से और अपने शिशुशिशुको विभिन्नि संस्कृति आधारित खिलौने देने से वहमानवता की अधिक समझ के साथ बड़ा होता है।

खेलते समय बच्चा दुनिया के बारे में और अपने बारे में भी खोजबीन करता है और सीखता है। आपका बच्चा अच्छे कौशल सीखने से लेकर अच्छे विचार सृजित करने तक सबसे उपयुक्त तब होता है जब वह खेल रहा होता है।